प्रशासन की शराब और पर्यटन नीति का खामियाजा समर वैकेशन में दिखा: पर्यटन सीजन में देवका सुनसान - Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli
  •  

  • RNI NO - DDHIN/2005/16215 Postal R.No.:VAL/048/2012-14

  • देश-विदेश
  • विचार मंथन
  • दमण - दीव - दानह
  • गुजरात
  • लिसेस्टर
  • लंदन
  • वेम्बली
  • संपर्क

  •         Monday, May 28, 2018
  • Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Archive
  • संपादक : विजय भट्ट सह संपादक : संजय सिंह । सीताराम बिंद
  • प्रशासन की शराब और पर्यटन नीति का खामियाजा समर वैकेशन में दिखा: पर्यटन सीजन में देवका सुनसान
    - बिच खाली, होटलें खाली, पर्यटकों की राह ताक रही है स्टॉलंे-होटलें
    असली आजादी ब्यूरो, दमण 3 मई। पिछले तीन दशकों तक पर्यटन नगरी का ताज पहनने वाली दमण नगरी इस वर्ष पर्यटकों के अभाव में सुनसान दिख रही है। मई शुरू हो चुका है और समर वैकेशन पूरे उफान पर है तब दमण का देवका सुनसान नजर आ रहा है। बिच खाली पडे है ज्यादातर होटलों में कमरें भी खाली है, ऐसे में पर्यटन सीजन की राह देख रहे स्टॉलधारक और होटल मालिक निराशा में डूब गये है। स्थानीय लोगों का मानना है कि प्रशासन की शराब और पर्यटन की घातक नीति के चलते पर्यटन उद्योग इसी वर्ष से दम तोडने लगा है। उनका मानना था कि दमण में अब तक पर्यटक खाने-पीने के आजादी और मुक्त वातावरण की वजह से आते थे। लेकिन पिछले कुछ महीनोें में एक के बाद एक प्रशासनिक आदेशों और बिच व्यू वाली होटलों में तोडफोड की वजह से पर्यटकों ने दमण से मुंह मोड लिया है। जिस अरबी समुद्र की सुंदरता को निहारने के लिए पर्यटक दमण आते थे उस सुंदरता के सामने धराशायी होटलों की दीवारें, समुद्र किनारे चल रहे सडको के निर्माण के चलते मिट्टी के बडे-बडे ढेर, सार्वजनिक स्थान पर शराब पीने पर पाबंदी, बिना लाईसेंस शराब बेचने पर सख्ती के चलते पर्यटकों ने दमण का विकल्प ढूंढना शुरू कर दिया है। उनका यह भी कहना था कि शुक्रवार, शनिवार और रविवार को विकेंड के समय ही पर्यटक दिखेगे जो कि पूरे वर्ष शनिवार और रविवार को तो आते ही है। उनका यह भी कहना था कि पर्यटक पहले देवका सडक और बिच पर ज्यादा समय बिताते थे, लेकिन अब पर्यटक ज्यादा समय नहीं बिता रहे। पर्यटन बढावा के नाम पर बडे-बडे इवेंट करने से पर्यटन उद्योग को फायदा नहीं होता है। पर्यटन उद्योग को फायदा प्रोत्साहित पर्यटन नीतियों से होता है। 1982-83 से दमण की ओर पर्यटक आकर्षित होना शुरू हुए थे। पिछले साढे तीन दशकों से दमण में हर वर्ष लाखों पर्यटक अरबी समुद्र और खाने-पीने की आजादी के चलते आते रहे है। लेकिन अब प्रशासन की सख्ती और धडाधड आदेश पर्यटकों को भयभीत कर रहे है। ऐसे में दमण-दीव प्रशासन को दमण पर्यटन की टूट रही कमर को बचाने के लिए और दमण की ओर पर्यटकों को फिर एक बार आकर्षित करने के लिए जरूरी कदम उठाने होंगे। अगर प्रशासन समय पर नहीं जगा तो पूरी दुनिया में जाकर दमण के लिए अवॉर्ड लेने वाले प्रशासन के पास अवॉर्ड तो दूर पर्यटन नगरी कहना भी संभव नहीं होगा।

    FLICKER
    Download Asliazadi's apple and android apps
    फोटो गैलरी
    वीडियो गैलरी
    POLLS